13/02/2013

तलवार नहीं ढाल चाहिए, कथा-मनोहर चमोली ‘मनु’.BALHANS.Feb,1st 2013

तलवार नहीं ढाल चाहिए

कथा-मनोहर चमोली ‘मनु’    

बहुत पुरानी बात है। राजा विजय प्र्र्ताप का जन्मदिन था। समूचा राज्य उनका जन्मदिन मना रहा था। सुबह से ही राजा को षुभकामना देने वालों का तांता लगा हुआ था। धनी और सम्पन्न राजा को कुछ न कुछ उपहार दे रहे थे। षाम होने को थी। अब दरबारी भी राजा को जन्मदिन की बधाई देने लगे।
महारानी ने राजा के कान में कुछ कहा। राजा ने हामी भरते हुए दरबारियों से कहा-‘‘मैं आज बहुत प्रसन्न हूं। जो चाहे मांग लो।’’
फिर क्या था। किसी ने स्वर्ण तो किसी ने रजत मुद्राएं मांग ली। किसी ने मोतियों की माला मांगी तो किसी ने तीर मांग लिया। मंत्री ने तलवार मांगी तो राजा ने अपनी प्रिय तलवारों में से एक उसे दे दी। मंत्री के बाद तो कई दरबारियों ने भी तलवार मांगनी षुरू कर दी। राजा ने सबकी मांग पूरी कर दी।
दरबार में महतो भी था। वह राजा का सेवक था। वह चुपचाप कोने में खड़ा था।
राजा ने कहा-‘‘महतो। तुम भी कुछ मांग लो।’’
महतो ने धीरे से कहा-‘‘महाराज। मुझे तो ढाल ही दीजिएगा।’’
यह सुनकर दरबारी हंस पड़े। सेनापति ने चुटकी लेते हुए कहा-‘‘ लगता है महतो को तलवार उठाने से डर लगता है।’’ हर कोई सेनापति की हां में हां मिलाने लगा।
राजा बोले-‘‘कहो महतो। कुछ और मांग लेते। ये तुच्छ सी ढाल क्यों चाहते हो?’’
महतो ने सिर झुकाते हुए कहा-‘‘महाराज। मेरी आयु भी आपको मिल जाए। लेकिन मैं सोचता हूं कि ये तलवार हमेषा मारने-काटने का ही काम करती है। वहीं ढाल बचाने का काम करती है। वैसे भी बड़े कह गए हैं कि मारने वाले से बचाने वाला भला। तो भला मैं तलवार लेकर क्या करूंगा!’’
राजा समझ गए। मुस्कराते हुए दरबारियों से बोले-‘‘ महतो ठीक कहता है। आप सब तो तलवार उठाकर दुष्मनों से लड़ेंगे। किंतु अवांछित प्रहार से मेरी रक्षा करने वाला भी तो कोई होना चाहिए।’’
 
यह सुनकर दरबारियों के सर झुक गये।
वहीं महारानी ने महतो को अपने गले का हीरों का हार महतो को उपहार में दे दिया। 000

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यहाँ तक आएँ हैं तो दो शब्द लिख भी दीजिएगा। क्या पता आपके दो शब्द मेरे लिए प्रकाश पुंज बने। क्या पता आपकी सलाह मुझे सही राह दिखाए. मेरा लिखना और आप से जुड़ना सार्थक हो जाए। आभार! मित्रों धन्यवाद।