13/04/2011

-मनोहर चमोली 'मनु' manuchamoli@gmail.com -------नई क्लास, नई किताबें, नया स्कूल- - नये सत्र के आते ही बच्चे खुश हो जाया करते थे... आज वो उत्साह नही दीखता. या बदल गया होगा, जो मुझे नही दिख रहा होगा...आप क्या कहते हैं.....?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यहाँ तक आएँ हैं तो दो शब्द लिख भी दीजिएगा। क्या पता आपके दो शब्द मेरे लिए प्रकाश पुंज बने। क्या पता आपकी सलाह मुझे सही राह दिखाए. मेरा लिखना और आप से जुड़ना सार्थक हो जाए। आभार! मित्रों धन्यवाद।