13/04/2011

vichar

----------'हम सब भारत के ऋणी हैं, उसने हमें गिनना सिखाया है, इसके बिना दुनिया का कोई अविष्कार नहीं हो सकता था.' -अल्बर्ट आइन्स्टीन.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यहाँ तक आएँ हैं तो दो शब्द लिख भी दीजिएगा। क्या पता आपके दो शब्द मेरे लिए प्रकाश पुंज बने। क्या पता आपकी सलाह मुझे सही राह दिखाए. मेरा लिखना और आप से जुड़ना सार्थक हो जाए। आभार! मित्रों धन्यवाद।