23/05/2012

नमक साथ रखती है ये दुनिया.....


यूँ नज़रें फिराकर मिलेगा क्या
अपनों को गिराकर मिलेगा क्या

जो झूठ खरीदें बेचें उनको
कसमें भी दिलाकर मिलेगा क्या

जो बात बात पे रूठे उसको
यूँ सर पे बिठाकर मिलेगा क्या

जो फकीरों का फकीर हो उसे
सपने भी दिखाकर मिलेगा क्या

मैं कहीं भी गया लौटा तो, अब
भूलों को गिनाकर मिलेगा क्या

नमक साथ रखती है ये दुनिया
खुद के जख़्म दिखाकर मिलेगा क्या.
----------------------------

-मनोहर चमोली ‘मनु’
11 मई 2012, सुबह-सवेरे 
मेरा मेल-manuchamoli@gmail.com है।
 ब्लाॅग लिंक है- http://alwidaa.blogspot.in

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यहाँ तक आएँ हैं तो दो शब्द लिख भी दीजिएगा। क्या पता आपके दो शब्द मेरे लिए प्रकाश पुंज बने। क्या पता आपकी सलाह मुझे सही राह दिखाए. मेरा लिखना और आप से जुड़ना सार्थक हो जाए। आभार! मित्रों धन्यवाद।