03/05/2012

वो अपना सा लगता है.....

____________

उसका आना खलता है
मुझको भी वो खटता है

बहार आने से पहले
पुराना पत्ता गिरता है

वो मेरा नहीं है मगर
मेरी चरचा करता है

मुझको कौन बुलाता है
जी क्यों मिरा मचलता है

दुनिया गैर सही यारों
वो अपना सा लगता है.

सोना तब निखरे है जब
भट्टी में वो तपता है

----------

मनोहर चमोली ‘मनु’.

3 मई 2012.गोधूलि की बेला में।

2 टिप्‍पणियां:

यहाँ तक आएँ हैं तो दो शब्द लिख भी दीजिएगा। क्या पता आपके दो शब्द मेरे लिए प्रकाश पुंज बने। क्या पता आपकी सलाह मुझे सही राह दिखाए. मेरा लिखना और आप से जुड़ना सार्थक हो जाए। आभार! मित्रों धन्यवाद।