11/05/2012

दबे पाँव तब आना भी

______________

चुप रहकर पछताना भी

ख़ुद से फिर टकराना भी

पैर पटक कर जाओगे

दबे पाँव तब आना भी

अगर,मगर,लेकिन ये सब

लगते हैं बचकाना भी

जैसे जिया सर उठाकर
ऐसे ही मर जाना भी

जीवन की रेल पेल में
कभी याद तो आना भी
___________________
-मनोहर चमोली ‘मनु’
डायरी से- 10.10.2010

2 टिप्‍पणियां:

यहाँ तक आएँ हैं तो दो शब्द लिख भी दीजिएगा। क्या पता आपके दो शब्द मेरे लिए प्रकाश पुंज बने। क्या पता आपकी सलाह मुझे सही राह दिखाए. मेरा लिखना और आप से जुड़ना सार्थक हो जाए। आभार! मित्रों धन्यवाद।