02/10/2010

bal kvita - mama ji

बड़े दिनों में आए हो,
मामा जी क्या लाए हो?
गुड्डे-गुड़िया नहीं चाहिए,
पॉम-टॉप क्या लाए हो?
बछिया सुंदर दिखती होगी,
कामधेनू सी लगती होगी.
यहाँ तो शोर-शराबा है,
चमक-दमक छलावा है.
नानी कैसी है बतलाओ?
बातों में मत उलझाओ.
अबकी हम न एक सुनेंगे,
गाँव आपके संग चलेंगे.
घुड़सवारी ख़ूब करेंगे,
दूध-दही-छाँछ पियेंगे।।

-manohar chamoli 'manu'
[03-10-2010]

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यहाँ तक आएँ हैं तो दो शब्द लिख भी दीजिएगा। क्या पता आपके दो शब्द मेरे लिए प्रकाश पुंज बने। क्या पता आपकी सलाह मुझे सही राह दिखाए. मेरा लिखना और आप से जुड़ना सार्थक हो जाए। आभार! मित्रों धन्यवाद।