28/04/2012

'एक नज़र में भा गए तुम'






       एक नज़र में भा गए तुम        
तन में आग लगा गए तुम

टिकट मिला संसद भी पहुँचे

पलक झपकते छा गए तुम

खुला रहा था दिल का द्वार

अंदर मेरे समा गए तुम

बने हुए थे हम तो ठूँठ
कोंपल लेकर आ गए तुम

‘मनु’ तो बेहद शरमीला है
उससे ही शरमा गए तुम

.............
-मनोहर चमोली ‘मनु’
-27 4. 2012. सुबह सवेरे में।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यहाँ तक आएँ हैं तो दो शब्द लिख भी दीजिएगा। क्या पता आपके दो शब्द मेरे लिए प्रकाश पुंज बने। क्या पता आपकी सलाह मुझे सही राह दिखाए. मेरा लिखना और आप से जुड़ना सार्थक हो जाए। आभार! मित्रों धन्यवाद।