27/04/2012

मुझको अगर कमाना होता


थोड़ा और सयाना होता
मुझको अगर कमाना होता

उसका कोई कद जो होता

उसके साथ ज़माना होता

मैं भी जे़ब में दरपन रखता

चेहरा जो सजाना होता

 
   मैं तो नदिया का पानी हूँ
सागर बनता ख़ारा होता

 
मैं फिर ग़ज़लें क्यों कहता जो
इश्क अगर छिपाना होता


.............
-मनोहर चमोली ‘मनु’
-24. 4. 2012. गोधूलि की बेला में.


4 टिप्‍पणियां:

यहाँ तक आएँ हैं तो दो शब्द लिख भी दीजिएगा। क्या पता आपके दो शब्द मेरे लिए प्रकाश पुंज बने। क्या पता आपकी सलाह मुझे सही राह दिखाए. मेरा लिखना और आप से जुड़ना सार्थक हो जाए। आभार! मित्रों धन्यवाद।