12/04/2012

माँ की सादगी मुझे सँवरने नहीं देती-----




            ये   यादें    हैं    जो    संभलने   नहीं   देती
बस   ये  कोसों   दूर   बहकने  नहीं   देती

वो  तेरे  पास  होकर  मेरा  किस  तरह है
तेरी  चाहत  उसे  मेरा   बनने  नहीं  देती

दिल क्या धड़कन  भी  बदल सकता हूँ मैं
पर कोई बात  मुझे  ऐसा  करने नहीं देती

चाहा   सँवार    लूँ   अपना   चेहरा  मगर
माँ  की   सादगी   मुझे  सँवरने  नहीं देती

रिश्वत  लाख  झुका  दे  तुझे लेकिन  मेरी
अना   है   जो   मुझे   बदलने   नहीं   देती

...-मनोहर चमोली ‘मनु’

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यहाँ तक आएँ हैं तो दो शब्द लिख भी दीजिएगा। क्या पता आपके दो शब्द मेरे लिए प्रकाश पुंज बने। क्या पता आपकी सलाह मुझे सही राह दिखाए. मेरा लिखना और आप से जुड़ना सार्थक हो जाए। आभार! मित्रों धन्यवाद।