27/04/2012

घर का कोना-कोना रो गया


 
ऐसी बातें कह कर वो गया
घर का कोना-कोना रो गया

बीच हमारे अब नहीं है वो

बो के बीज वहम का वो गया

माँ च ौखट में खड़ी रही और

भूखा बिलख़ता बच्चा सो गया

दरपन भी रोया साथ मेरे
बाद उसके चूर वह हो गया

मैं तो सूखा पेड़ था अब तक
छुआ तूने तो हरा हो गया

............................
-मनोहर चमोली ‘मनु’
-23. 4. 2012. सुबह सवेरे.
.................................





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यहाँ तक आएँ हैं तो दो शब्द लिख भी दीजिएगा। क्या पता आपके दो शब्द मेरे लिए प्रकाश पुंज बने। क्या पता आपकी सलाह मुझे सही राह दिखाए. मेरा लिखना और आप से जुड़ना सार्थक हो जाए। आभार! मित्रों धन्यवाद।